Translate Into Your Language

पड़ोस वाली दीदी की चूत का मूहूर्त हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर !

अभी हेलो दोस्तो, मैं यहाँ आपको एक कहानी सुनने जा रहा हूँ जो बिल्कुल सच्ची कहानी है और किसी भी काल्पनिक व्याख्यानों से कोई भी संबंध नहीं है। मेरा नाम अभी है और मैं ओडिशा का रहने वाला हूँ, कद 5'7'' है और उम्र 23 साल यह कहानी मेरे और हमारे पड़ोस में रहने वाली एक दीदी पूजा के बारे में है, उनका फिगर 34 28 36 हे. तो इसको पढ़िए और मज़ा लीजिए। यह बात 25 दिन पुरानी है जब मेरे मम्मी और पापा एक शादी में गये हुए थे। उस दिन मैं घर में अकेला था और बारिश भी हो रही थी। तभी मेरे घर के दरवाजे की घण्टी बजी। मैंने जाकर दरवाजा खोला तो देखा कि पूजा दीदी खड़ी थी। वो बारिश में पूरी भीगी हुई थी, कॉलेज से भीग के आई हुई थी, उनके घर में कोई नहीं था, ताला पड़ा हुआ था, इस कारण वो मेरे घर आई थी। मैंने उनको घर के अंदर बुलाया और उनको एक तौलिया दिया, सिर पौंछने के लिए और उनको कहा- मैं आपके लिए चाय बना देता हूँ। तो वो मना करने लगी, बोली- कोई सूखा ड्रेस है मेरे लायक? पर हमारे घर में कोई लड़की ना होने के कारण मैंने उनको अपनी मम्मी की साड़ी दे दी। वो उस साड़ी को पहनने के लिया मेरे बेडरूम में चली गई और दरवाजा लॉक कर लिया। मैं तो पहले से ही उनको चोदने का सपना देखा करता था तो मैंने क्या किया कि मैं बेडरूम के की होल से झांकने लगा। अंदर का नज़ारा क्या था, आपको बताते हुए अभी मेरा लंड खड़ा हो रहा है। उन्होंने अंदर अपने सारे कपड़े उतार दिए और पूरी नंगी होकर अपने आप को तौलिये से पोंछने लगी और फिर सिर्फ़ साड़ी को लपेट लिया। तभी में वहाँ से हट गया। फिर दरवाजा खुला और दीदी सिर्फ़ साड़ी लपेटे हुए थी और अपने सारे कपड़े को वॉशिंग मशीन में सूखने के लिया डाल दिए। यह सब मैं ड्राईंग रूम में बैठ कर देख रहा था। फिर वो मेरे पास आई और मेरे बगल में बैठ गई और बातें करने लगी। पर मेरा बातों में ध्यान कम और उनके दोनों रसीले बड़े बड़े मम्मों के ऊपर ज़्यादा था। उन्होंने इस बात को पकड़ लिया और मुझे बोली- अभी तेरे दिमाग़ में क्या चल रहा है, मुझे मालूम है। मैं थोड़ा घबरा गया और कहा- आप क्या ज्योतिषी हो जो मेरे दिमाग़ को पढ़ लिया? उन्होंने कहा- तेरा ध्यान मेरी बातों में कम और किसी दूसरी ओर ज़्यादा है। "आपको तो सब पता है।" मैंने कहा। उन्होंने कहा- तुझे पता है कि मैं अभी 27 की होने वाली हूँ और मेरे घर में मेरी शादी के बारे में कुछ नहीं कर रहे हैं। मेरी बड़ी बहन की शादी के बाद ही मेरा नंबर आएगा, बोल रहे हैं। मगर तुझे पता है कि कोई लड़की की उम्र 18 साल से ज़्यादा हो जाए तो उसको शादी करने की इच्छा होने लगती है। मैंने पूछा- क्यूँ? उन्होंने कुछ बताया नहीं और 'तुम नहीं समझोगे' बोल कर बात ख़त्म कर दी। मैंने फिर उनको बताने को बोला तो उन्होंने आख़िर में कहा- यह बात एक लड़के से नहीं की जाती और एक तरह से तू मेरा छोटा भाई भी है, पर तू बड़ा हो गया है, इसलिए तुझे बता रही हूँ पर मैंने यह बात तुझसे बताई, किसी को मत बताना। मैंने वादा किया कि यह बात में किसी को नहीं बताऊँगा। दोस्तो, एक बात है कि अगर उसकी चुदने की इच्छा नहीं होती तो मैं कितना भी पूछता, वो नहीं बताती मगर उसको भी मुझसे चुदने का मन था, इसलिए 2-3 बार पूछने से बताने लगी... ये लड़कियाँ भी ना छुपी-रुस्तम होती हैं। तो उन्होंने कहा- हर लड़की का सपना होता है शादी करना क्यूँकि हर लड़की चाहती है एक अच्छा नेक और समझदार पति जो उसकी भावना को समझे। मुझे लगा साली पॉइंट पर आएगी पर यह तो प्रवचन दे रही है। कुछ सोच कर फिर उनसे कहा- और कुछ दीदी? तो वो फिर बात को घुमा घुमा कर कह रही थी और मेरा दिमाग़ खा रही थी। पर ऊपर वाले की दया मुझ पर हुई और वो अन्त में मुद्दे पर आई, बोलने लगी- तुम तो सेक्स के बारे में जानते ही होगे, क्यूँकि तुम बड़े हो चुके हो। मैं चुपचाप सुन रहा था और सोच रहा था कि यह मुझे बोल रही है कि तुम सेक्स के बारे में जानते ही होगे, मैं तो सेक्स कर चुका हूँ। तुम्हें पता है कि लड़की का सेक्स करने का मन लड़के से ज़्यादा होता है पर वह बता नहीं पाती पर तुम बुरा मत मानो, यह सब बता रही हूँ बोल कर क्यूँकि मेरे मन की बात आज पहली बार किसी को बता रही हूँ। साली मुझे क्यूँ बुरा लगेगा, मुझे तो अच्छा लगता है और ऐसा करोगी तभी तो तुम्हें चोद पाऊँगा। मैंने कहा- नहीं दीदी, कुछ नहीं, आप बताइए... तो उसने कहा- कभी तुमने सेक्स किया है किसी के साथ? तो मैंने मना कर दिया... फिर उसने कहा- अगर तुम बुरा ना मानो तो और एक बात कहूँ? तो मैंने कहा- हाँ दीदी कहिए ! उसने कहा- किसी को बताओगे तो नहीं? मैंने ना बोल दिया। "क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगे?" मैंने कुछ नहीँ कहा और सीधे उसको चूमने लगा, वो भी मेरे साथ लिपट गई और मेरे चुम्बन का जवाब देने लगी। मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था और वह मेरे लंड को मेरे बॉक्सर के ऊपर ही पकड़ कर सहला रही थी। तभी मैंने उसे बेडरूम में चलने को कहा और वो उठ कर बेड रूम में चली गई। मैं तभी दरवाजा लॉक करके अंदर गया तो देखा साली पूरी नंगी होकर बिस्तर में लेटी हुई थी। यह देख कर मेरे होश उड़ गए, मैंने जल्दी से सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए और पूरा नंगा होकर बिस्तर पर चढ़ गया। उसने मेरे 6 इंच का लंड को पकड़ा और हिलाने लगी। तब मैंने उससे कहा- दीदी, अगर तुम इसको इतनी तेज हिलाओगी तो मैं यहाँ ही पानी छोड़ दूँगा और तुम्हारी प्यास अधूरी रह जाएगी। क्यूँकि एक-दो घंटे में पापा-मम्मी आ जाएँगे। तब उसने कहा- पहली बार सेक्स कर रही हूँ इसलिए कंट्रोल नहीं होता। फिर मैंने उसके गालों को चूमा और दोनों हाथ से उसके दूध दबाने लगा। वह पागल सी हो जा रही थी। फिर मैंने उसको सीधे बेड पर लिटा कर होंठों पर चूमना शुरु कर दिया और वि भी बराबर का मज़ा ले रही थी। फिर मैंने उसकी चूत को मसलना शुरू कर दिया तो वह सिसकारी भरने लगी थी। मैं एक उंगली उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा, साली की चूत बड़ी सख़्त थी, ओ स्स्स्स्शह की आवाज़ निकाल रही थी। फिर मैं उसकी दोनों टांगों के बीच चला गया और उसके चूतड़ों के नीचे एक तकिया रख दिया और अपना लंड उसकी चूत में रग़ड़ने लगा। "डालो, अभी डालो इसको ! नहीं तो मैं मर जाऊँगी !" वो ऐसे बोल रही थी। मैंने अपने लंड में तेल लगाया और उसकी चूत के छेद में घुसाना शुरु कर दिया। वो दर्द के मारे तड़प रही थी, तब मेरा लंड सिर्फ़ दो इंच अंदर गया होगा और उसकी चूत से खून निकलने लगा। वह दर्द से रो रही थी और मुझे लंड निकालने को बोल रही थी तो मैंने कहा- दीदी आप तो चुदने को इतनी व्याकुल थी तो अब क्या हुआ? कुछ नहीं होगा, यह पहली बार ऐसा होता है, बाद में अच्छा लगेगा ! यह बोल कर मैंने एक जोरदार धक्का लगाया और मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया और वो चिल्ला उठी। फिर मैंने उसके मुँह पर हाथ रख दिया और एक धक्का लगा कर पूरा लौड़ा अंदर कर दिया... वो रोने लगी पर मैंने अपना हाथ उसके मुँह से नहीं हटाया और धीरे धीरे लंड अंदर बाहर करने लगा। कुछ देर बाद वह सामान्य हो गई और मेरे साथ ताल में ताल मिलाने लगी। ऐसा 10 मिनट चलता रहा और हम दोनों एक साथ झड़ गये। मैं उसके ऊपर लेट गया और कुछ देर बाद हम बाथरूम में जाकर नहाए और उसके कपड़े जो वॉशिंग मशीन में डाले हुए थे, वे सूख गए थे तो उसने कपड़े पहन कर मुझे एक किस किया और रूम में से चादर ला कर धो दी। उसके बाद एक बार मुझसे बोली कि आज रात उसके घर के सभी उसकी बड़ी दीदी की शादी की बात करने जा रहे हैं तो आज रात को आ जाना !शाम को उसके घर जाकर उसको खूब चोदा। अब जब भी मौका मिलता है, उसको चोद देता हूँ और वो भी इससे बहुत खुश है। तो यह थी मेरी कहानी ! मुझे मेल करें। anisha1koi@gmail.com हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर !